Thursday, September 29, 2022
Home बिज़नेस TRAIN के डिब्बों में वायरस से बचने का भी इंतजाम, जानिए रेलवे...

TRAIN के डिब्बों में वायरस से बचने का भी इंतजाम, जानिए रेलवे ने क्या की है तैयारी

..नई दिल्ली :

भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने वायरस से पैदा होने वाली बीमारियों से यात्रियों को बचाने के लिए कदम उठाया है। रेलवे इसके लिए तांबे का इस्तेमाल कर रहा है। ट्रेन के दरवाजों और डिब्बे के गलियारों में हैंडल आदि पर रेलवे सूक्ष्मजीव रोधी तांबे (anti-microbial copper) का प्रयोग कर रहा है। इससे यात्री वायरस के कम से कम संपर्क में आ सकेंगे। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने बुधवार को लोकसभा में यह जानकार दी है। कोरोना वायरस महामारी के बाद से दुनियाभर की सरकारें अपनी जनता की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए अलग-अलग कदम उठा रही हैं। इसी तरह भारत सरकार के अलग-अलग विभाग दीर्घकालिक प्रभावी बचाव के कदम उठा रहे हैं। बता दें कि रेलवे यात्रियों की सहूलियत के लिए देशभर में कई रूट्स पर होली स्पेशल ट्रेनों (Holi Special Trains) का संचालन भी कर रही है। जो यात्री होली पर अपने घर जा रहे हैं, उन्हें इससे काफी फायदा होगा।

300 डिब्बों में दरवाजों पर होगी तांबे की परत
रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव (Railway Minister Ashwini Vaishnav) ने बुधवार को लोकसभा (Lok Sabha) में बताया कि वायरस के खिलाफ दीर्घकालिक प्रभावी बचाव के कदम के तहत रेलगाड़ियों के 300 डिब्बों में प्रवेश द्वार सम्पूर्ण तांबे की परत चढ़ाई गई है। साथ ही रेल डिब्बों के गलियारा क्षेत्र में हैंडल पर सूक्ष्मजीव रोधी तांबे की परत चढ़ायी गई है। लोकसभा में भाजपा के राजदीन रॉय के पूरक प्रश्न के उत्तर में रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने यह जानकारी दी।

मिश्र धातु से मिलती है मदद
रॉय ने पूछा था कि क्या सरकार फरवरी 2021 की अमेरिकी पर्यावरण सुरक्षा एजेंसी की उस घोषणा से अवगत है कि मिश्र धातु कोविड-19 सहित विषाणुओं के खिलाफ दीर्घकालिक तौर पर प्रभावी होती हैं। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने बताया कि रेल डिब्बा कारखाना कपूरथला द्वारा सूक्ष्मजीव रोधी तांबे की कोटिंग के साथ 300 सवारी डिब्बे मुहैया कराए गए हैं।

सोडियम हाइपोक्लोराइट का हो रहा उपयोग
वैष्णव ने बताया कि ट्रेन के डिब्बों के प्रवेश द्वार पर संपूर्ण तांबे की कोटिंग की गई है तथा गलियारा क्षेत्र में तांबे की कोटिंग युक्त हैंडल की व्यवस्था की गई है। वैष्णव ने साथ ही बताया कि मौजूदा महामारी के दौरान संक्रमण के फैलाव को नियंत्रित करने के लिए सभी क्षेत्रीय रेलों को कीटाणु शोधन सहित सोडियम हाइपोक्लोराइट का उपयोग करने की सलाह दी गई है। उन्होंने बताया कि इसमें रेक्सिन कवर वाली सीटों, दरवाजे के हैंडल, शौचालय और शौचालय फिटिंग, कुंडी, पानी के नल आदि पर इनका प्रयोग शामिल है।

RELATED ARTICLES

बिजनेस कमाल का : इस बिजनेस से हर रोज मोटी कमाई, सुबह से शाम तक खरीदारों की रहेगी भीड़

♦ अपना बिजनेस  ♦ अगर आप अपना बिजनेस शुरू करने की तैयारी कर रहे हैं और कम निवेश में मोटा मुनाफा कमाना चाहते हैं. तो...

CEAT Ltd 2-3 साल में आउटलेट को दोगुना करके 1 लाख करेगी : COO अर्नब बनर्जी

नई दिल्ली: CEAT Ltd ने अपनी FMCG शैली के वितरण के माध्यम से 5,000-10,000 की आबादी वाले स्थानों में अपने टायर बिक्री नेटवर्क का...

हो गई Mahindra Scorpio Classic लॉन्च, कीमत सुनकर झूम उठोगे आप, फीचर्स भी जबर्दस्त

♦ Mahindra Scorpio Classic ♦ महिंद्रा ने अपनी स्कॉर्पियो एसयूवी को हाल ही में नए अवतार में पेश किया है. इसे स्कॉर्पियो क्लासिक (Scorpio Classic)...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post