Wednesday, September 28, 2022
Home उत्तराखंड यमकेश्वर क्षेत्र की बहुप्रतिक्षित सड़क का कब तक होगा पूर्ण निर्माण जनता...

यमकेश्वर क्षेत्र की बहुप्रतिक्षित सड़क का कब तक होगा पूर्ण निर्माण जनता की आशायें टिकी हैं यमकेश्वर उदय पर

उत्तराखंड, यमकेश्वर। 

पिछले 22 सालों से यमकेश्वर में भाजपा अपना परचम लहरा रही है, यह भाजपा का संगठन की एक जुटता का ही कमाल है कि इस बार भी भाजपा अपना किला को बरकरार रखने में कामयाब रही है। पिछले 2017 से 2022 तक वर्तमान विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खण्डूरी जो कि तात्कालीन यमकेश्वर की विधायक रही उनका कार्यकाल यमकेश्वर में सड़कों के लिए जाना गया। किंतुं एक बहुंप्रतिक्षित सड़क जों कि यमकेश्वर के पर्यटन क्षेत्र के लिए महत्वपूर्ण मार्ग के रूप में विकसित होती और नीलकंठ क्षेत्र को तालघाटी से लेकर डांडामंण्डल रवासण होते हुए कण्व घाटी से सीघे कोटद्वार को जोड़ेगी वह सड़क पिछले 12 सालों से त्रिशंकू की तरह अधर में लटकी है। यह सड़क धारकोट जुलेडी मोटर मार्ग है।

सन् 2008 में तात्कलान मुख्यमंत्री बीसी खण्डूरी ने उक्त सडक जिसकी कुल लम्बाई 34 किलांमीटर है की स्वीकृति प्रदान की थी, और सड़क के लिए टेण्डर प्रक्रिया कर लोकनिर्माण विभाग ने दोनों छोरों से 10 किलोमीटर काटकर दोनों ओर से नदी के किनारे छोड़ दी। उसके बाद बीच का हिस्सा 14 किलोमीटर अभी तक नहीं बन पाया है। डांडामण्डल से धारकोट मरोड़ा दिवोगी होते हुए उक्त सड़क साईकिलवाड़ी गॉव तक बन चुकी है, वहीं दूसरी छोर से जुलेडी से ढौसंण होते हुए त्याडो गाढ तक उक्त सड़क 10 किलोमीटर कट चुकी है, लेकिन बीच के हिस्सा अभी भी अधूरा है। उक्त सडक पर त्याडो और साईकिलवाड़ी गॉव के पास दो जगह पर पुल लोक निर्माण् विभाग के तहत पूर्व में ही स्वीकृत हैं। पिछले 12 सालों से उक्त सडक का निर्माण अभी तक नही हो पाना विभागीय लचर प्रणाली और जनप्रतिनिधियों की उदासीनता ही एक मुख्य कारण है कि उक्त सड़क का प्रकरण इंच भर भी आगे नहीं बढ पाया है।

उक्त सड़क निर्माण से यमकेश्वर क्षेत्र के पर्यटन के साथ रोजगार के द्वार भी खुल सकते हैं, क्येंकि जिस तरह से तालघाटी झील का सर्वे कार्य अतिंम चरणों में हैं और मिली जानकारी के अनुसार सर्वेयरों द्वारा दी जाने वाली अनुमानित जानकारी के अनुसार उक्त स्थल पर झील बनने की पूर्ण संभावना नजर आ रही है, हालांकि अभी झील निर्माण के प्रारम्भिक चरणों के सर्वे के लिए स्थलीय मिट्टी पानी और पत्थर जॉच के लिए लैब में भेजे जा चुके हैं, जिसका सकारात्मक परिणाम का इंतजार क्षेत्रवासियों को है। वहीं इस सड़क के पूर्ण होने से नौगॉव बुकण्डी विन्ध्यवासनी और धारकोट जुलेड़ी मोटर मार्ग क बनने से तालघाटी की बरसात में सडक की समस्या का स्थायी समाधान एवं नीलकंठ क्षेत्र डांडामण्डल क्षेत्र से सीघा जुड जाता वहीं अमोला से सीधे रवासन नदी होते हुए जौरासी चूना महेड़ा, किमसेरा और मालनघाटी कण्व आश्रम क्षेत्र सीधे पर्यटन लाईन से जुड जायेगा।

यमकेश्वर क्षेत्र के इस सड़क निर्माण के लिए क्षेत्रीय जनता लामबंद है, स्थानीय निवासियों की एक बार पुनः आश जग गयी है कि यमकेश्वर उदय  तहत धारकोट जुलेड़ी मोटर मार्ग का उदय होगा ऐसी उम्मीद जगती नजर आ रही है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

इंद्रेश अस्पताल में पैर की चोट का इलाज कराने पहुंची महिला की किडनी निकालने का अस्पताल पर लगा आरोप

देहरादून।  श्री महंत इंद्रेश अस्पताल में एक महिला पैर की गंभीर चोट की सर्जरी के लिए पहुंची थी। लेकिन जब वह ओटी से बाहर निकली...