Home उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ : स्कूूल और कॉलेज डिग्री बांटने के साथ...

मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ : स्कूूल और कॉलेज डिग्री बांटने के साथ ही अमर सेनानियों के गौरवशाली इतिहास को भी खोजें।

उत्तर प्रदेश :

मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने कहा कि 1857 के आंदोलन में अवध क्षेत्र के हजारों लोग शहीद हुए थे, लेकिन अफसोस इस बात का है कि हमारे पास उनका संकलन नहीं है। स्कूूल और कॉलेज डिग्री बांटने के साथ ही अमर सेनानियों के गौरवशाली इतिहास को भी खोजें। छात्र-छात्राएं जो प्रोजेक्ट तैयार करें, उसमें अमर सेनानियों को शामिल करें। ग्राम स्तर, न्याय पंचायत स्तर, ब्लॉक स्तर और जिला स्तर पर पता करें कि देश को आजादी दिलाने में किन-किन सेनानियों ने अपनी कुर्बानियां दीं, ताकि हमारी आने वाली पीढ़ी को उसकी जानकारी हो सके। वह बुधवार को अमर सेनानी राना बेनी माधव बक्श सिंह की 218वीं जयंती पर एफजी कॉलेज में आयोजित भाव समर्पण समारोह में बोल रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आजादी की असली ललक संगठित रूप से 1857 में देखने को मिली थी। जब एक साथ देश में अलग-अलग जगहों पर आंदोलन शुरू किया गया था। बुंदेलखंड में झांसी की रानी लक्ष्मीबाई ने बागडोर संभाली थी तो कानपुर में तात्या टोपे ने। वहीं अवध क्षेत्र में जिस नायक ने अंग्रेजों से मोर्चा लिया था, उस अमर नायक का नाम था राना बेनी माधव बख्श सिंह। शंकरगंज स्टेट के राजा अपने हजारों वीर सैनिकों के साथ मोर्चा लेने के लिए मैदान में निकल पड़े थे। उन्होंने कहा कि हम आज जब राना बेनी माधव जी को याद कर रहे हैं तो फिर वीर सेनानी वीरा पासी को कैसे भूल सकते हैं, जिन्होंने अवध क्षेत्र में आंदोलन को गति प्रदान की थी। उनकी ओर से जलाई गई अलख के बाद हम लोग 90 वर्षों तक अंग्रेजों से लड़ते रहे और हजारों नायकों की वजह से ही हमें आजादी मिली थी। आज अगर हम लोग सुरक्षित हैं तो उसमें सबसे बड़ा योगदान हमारे सैनिकों का है। आज हम एक ऐसे ही वीर सेनानी सूबेदार संजय कुमार की वजह से सुरक्षित हैं, जिन्होंने कारगिल युद्ध में दुश्मनों के छक्के छुड़ा दिए थे।

कुछ सालों में दुनिया का ताकतवर देश होगा भारत
सीएम ने कहा कि आने वाले कुछ सालों में भारत दुनिया का सबसे ताकतवर देश होगा। आज हमने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हर क्षेत्र में बेहतर काम किया है। जब कोरोना काल आया तो हर कोई इसका शिकार हुआ। कारोबार प्रभावित हुआ, लेकिन हम लोगों ने हार नहीं मानी। मुसीबत के समय में भी सभी ने धैर्य से काम लिया। जिसका नतीजा रहा कि हम उस महामारी से निपट पाएं। उन्होंने कहा कि सारी जिम्मेदारी सरकार की ही नहीं, बल्कि हमारी भी जिम्मेदारी है कि हम समाज और अपने लिए कुछ करें। आगे बढ़ें। तरक्की करें और देश व प्रदेश का नाम रोशन करें।

संत अध्ययन कर सकते हैं तो हम क्यों नहीं
सीएम ने कहा कि एक माह पहले महाराष्ट्र से कुछ संत उनके पास आए थे। संतों ने उनसे कहा कि आप हमारे आश्रम आएं। मैंने कहा कि हमें वहां के बारे में कुछ जानकारी नहीं है। इस पर संतों ने कहा कि हमारे आश्रम से आपके पीठ के अच्छे संबंध रहे हैं। हम जल्द आपको इसके कुछ प्रमाण देंगे। कुछ दिन बाद संत फिर आए और प्राचीन पांडुलिपियां सौंपी। इन प्राचीन पांडुलिपियों को हमने पुरातत्व विभाग को दिया और अध्ययन कराया। अध्ययन के बाद इन पांडुलिपियों में 16वीं सदी से 19वीं सदी तक गोरख पीठ के संतों की जानकारी थी। यह देख मैं आश्चर्यचकित था। जब एक संत ऐसा काम कर सकता है तो आप क्यों नहीं।

दोबारा मुझे आने का मिला सौभाग्य
मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे आजादी के इस वीर नायक को याद करने के लिए दोबारा आने का सौभाग्य मिला है। दो साल पहले भी कार्यक्रम में शामिल हुआ था। राना बेनी माधव बख्श सिंह स्मारक समिति ने जिस तरह से अपने पूर्वजों को संजोने का काम किया है, वह वास्तव में बहुत ही तारीफ के योग्य है। हमें अमर सेनानियों के इतिहास के बारे में जानकारी करनी चाहिए।

रानी बेनीमाधव बक्श सिंह की स्मृति में बनेगा सभागार 

अमर सेनानी राना बेनीमाधवबक्श सिंह जयंती पर एफजी कॉलेज के इंदिरा गांधी सभागार में आयोजित भाव समर्पण समारोह के दौरान बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राना बेनीमाधवबक्श सिंह की स्मृति में एक सभागार का शिलान्यास किया। जमीन चिन्हित करके जल्द ही सभागार का निर्माण कार्र्य शुरू होगा। इस दौरान मुख्यमंत्री ने अवध केसरी पुस्तक का विमोचन भी किया।

करीब 12 बजे मुख्यमंत्री का जिले आगमन हुआ। सबसे पहले मुख्यमंत्री ने नेहरू रेलवे क्रासिंग स्थित रानरा बेनीमाधवबक्श सिंह की प्रतिमा पर पहुंचकर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किया। इसके बाद डिग्री कॉलेज चौराहा स्थित शहीद चौक पर पुष्पांजलि अर्पित की। इसके बाद सीएम ने एफजी कॉलेज के परिसर में सूचना एवं जनसंपर्क विभाग द्वारा राना बेनी माधव के जीवन तथा विकास कार्यों पर आधारित प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। यहां के बाद मुख्यमंत्री एफजी कॉलेज स्थित इंदिरा गांधी सभागार पहुंचे और वहां पर भाव समर्पण समारोह का दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारंभ किया।

कार्यक्रम के दौरान कारगिल युद्व के दौरान परमवीर चक्र से अलंकृत योद्वा सूबेदार संजय कुमार को राना बेनी माधवबख्ष सिंह स्मृति शौर्य सम्मान से सम्मानित किया। साहित्य के क्षेत्र में मध्य प्रदेश के नव गीतकार अनूप अषेष शिव बहादुर सिंह भदौरिया स्मृति साहित्य सम्मान, समाज सेवा के क्षेत्र में उत्कृट कार्य करने के लिए अर्पित यादव को वीरा पासी स्मृति सेवा सम्मान, पत्रकारिता के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने पर शमशेर सिंह को दिलीप सिंह स्मृति सम्मान से सम्मानित किया। सीएम के हाथों से सम्मानित होने पर सभी का चेहरा खुशी से खिल उठा। सभी ने इसके लिए मुख्यमंत्री और समिति के पदाधिकारियों के प्रति आभार जताया। इस मौके पर समिति के अध्यक्ष व पूर्व विधायक इंद्रेश विक्रम सिंह, पूर्व एमएलसी राकेश प्रताप सिंह, पूर्व विधायक गजाधर सिंह, राघवेंद्र प्रताप सिंह, उपमेंद्र सिंह, आशुतोष सिंह ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए उनका सम्मान किया। साथ ही कार्यक्रम में शिरकत करने पर मुख्यमंत्री का आभार जताया।

दो मंत्री और दो विधायकों ने भी लिया भाग
एफजी कॉलेज स्थित इंदिरा गांधी सभागार में आयोजित भाव समर्पण समारोह में प्रदेश के राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) दिनेश प्रताप सिंह, राज्यमंत्री मयंकेश्वरशरण सिंह के अलावा सदर विधायक अदिति सिंह, सलोन विधायक अशोक कोरी ने भी भाग लिया। मंत्रियों ने कहा कि राना बेनी माधव बख्श सिंह भारत माता के महान सपूत तथा स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे। उनका जीवन देश की आजादी एवं स्वाधीनता भारत की एकता, अखंडता एवं सामाजिक समरसता को बनाए रखने के लिए समर्पित था। विधायकों ने कहा कि देश को आजाद कराने वाले वीर सपूतों को हम कभी भुला नहीं सकते हैं। उन्हीं की बदौलत आज हम खुली हवा में सांस ले रहे हैं।

भाजपाइयों ने किया मुख्यमंत्री का स्वागत
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का भाजपाइयों ने जोरदार स्वागत किया। जिलाध्यक्ष रामदेव पाल, पालिकाध्यक्ष प्रतिनिधि मुकेश श्रीवास्तव, पुष्पेंद्र सिंह, विजय वाजपेयी, जेपी सिंह के अलावा शशांक सिंह राठौर, हर्षवर्धन तिवारी, ने कार्यक्रम में हिस्सा लेकर सीएम का स्वागत किया।

RELATED ARTICLES

उत्तर प्रदेश, बरेली : जामा मस्जिद को बम से उड़ाने की धमकी, इस चिट्ठी से मचा हड़कंप

उत्तर प्रदेश, बरेली ; राजधानी से तकरीबन 250 किलोमीटर दूर झुमका शहर के नाम से मशहूर बरेली का माहौल बिगाड़ने की कोशिश हो रही है....

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ : 5 साल में प्रदेश के हर परिवार के एक सदस्य को नौकरी देगी सरकार, विकास हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता

उत्तर प्रदेश, हापुड़ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विकास हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। प्रधानमंत्री के संकल्प के साथ जुड़कर प्रदेश एक भारत और श्रेष्ठ...

CM Yogi ने दिए निर्देश, 1 October से पश्चिमी और 1 November से पूर्वी यूपी में शुरू होगी धान की खरीद

उत्तर प्रदेश, Lucknow : सीएम के निर्देश पर खाद्य एवं रसद विभाग ने खरीफ सीज़न में धान खरीद की तैयारी शुरू दी है। एक अक्तूबर...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने किया रानीपोखरी जाखन नदी पर बने पुल का लोकार्पण

उत्तराखंड; मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आज रानीपोखरी में जाखन नदी पर बने नवनिर्मित पुल का लोकार्पण किया। इस दौरान सांसद डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक,...