Home पर्यटन DARJEELING ; दार्जिलिंग के टॉप पर्यटन और दर्शनीय स्थल की जानकारी

DARJEELING ; दार्जिलिंग के टॉप पर्यटन और दर्शनीय स्थल की जानकारी

♦♦♦ DARJEELING ♦♦ ♦

दार्जिलिंग पश्चिम बंगाल राज्य के उत्तर में पूर्वी हिमालय की तलहटी में स्थित एक खुबसूरत हिल्स स्टेशन है। समुद्र तल से 2134 मीटर की ऊँचाई पर स्थित दार्जिलिंग के जिलों की सीमाएं बांग्लादेश, भूटान और नेपाल जैसे देशों के साथ जुडी हुई हैं।

दार्जिलिंग विभिन्न बौद्ध मठों और हिमालय की आकर्षित चोटियों से घिरा हुआ है। यहां की वादियां बेहद मनमोहक हैं और यह एक हिल स्टेशन के रूप में दुनिया भर में प्रसिद्ध है। दार्जिलिंग सिर्फ चाय के कारण विश्वभर में प्रसिद्ध नहीं है बल्कि अपनी सुंदरता के कारण भी यह शहर पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। इस आर्टिकल में हम दार्जिलिंग के प्रमुख पर्यटक स्थल और घूमने की जानकारी के बारे में बात करने वाले है इसीलिए इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़े –

दार्जिलिंग का इतिहास

दार्जिलिंग का इतिहास देखने पर हम पाते हैं कि दार्जलिंग ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा अधिग्रहण से पहले सिक्किम का एक हिस्सा हुआ करता था और उससे पहले नेपाल के एक अभिन्न अंग के रूप में जाना जाता था। लेकिन फरवरी 1829 में नेपाल और सिक्किम के बीच सीमाओं के बारे में विवाद शुरू होने लगा। इस समय के दौरान भारत के गवर्नर जनरल लॉर्ड विलियम बेंटिक थे और उन्होंने ने समस्या को हल करने की कोशिश की। इस प्रक्रिया के दौरान उन्होंने महसूस किया कि दार्जिलिंग में प्रमुख चोकी का निर्माण किया जा सकता हैं और यह चाय की खेती के लिए एक शानदार भूमि हैं। ब्रिटिश अधिकारीयों ने इस स्थान का दौरा किया और इसकी सुन्दरता को सराया। दार्जिलिंग बाद में एक आकर्षित पर्यटक स्थल बनता चला गया और पहाड़ियों की रानी की उपाधि प्राप्त की।

दार्जिलिंग का अर्थ

दार्जिलिंग दो शब्दों “वज्र” और “लिंग” से मिलकर बना हैं। जिसका अर्थ होता हैं वज्र की भूमि या भूमि का टुकड़ा।

दार्जिलिंग हिल स्टेशन पर घूमने के लिए कई आकर्षित जगह विधमान है जिनका दौरा करके पर्यटक सुखद आनंद की अनुभूति कर सकता हैं। तो आइए हम दार्जलिंग हिल स्टेशन के टूरिस्ट प्लेस की जानकारी आपको देते हैं।

दार्जिलिंग की मशहूर पर्यटन स्थल टाइगर हिल

दार्जलिंग में घूमने लायक जगह टाइगर हिल 2590 मीटर की ऊँचाई पर और दार्जिलिंग से 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। टाइगर हिल सनसेट पॉइंट के लिए सबसे अधिक लौक प्रिय पर्यटन स्थल हैं। टाइगर हिल से कंचन जंगा का खूबसूरत नजारा देखने को मिलता हैं। टाइगर हिल की सबसे दिलचस्प बात घूम का शिखर और बर्फ से ढंकी हुई पहाड़ियां हैं जोकि पर्यटकों को बहुत अधिक लुभाती हैं। यहाँ स्थित दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल में शामिल सबसे ऊंचा रेलवे स्टेशन है।

दार्जिलिंग के दर्शनीय स्थल बतासिया लूप

दार्जिलिंग की सबसे सुरम्य ट्रेन मार्गों में से एक बतासिया लूप प्राकृतिक रूप से हरा-भरा ट्रेन मार्ग हैं जोकि दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे की ऊंचाई को कम करने के उद्देश्य से बनाया गया हैं। बतासिया लूप की सबसे करामाती पहलुओं में शामिल इसकी बेजोड़ प्राकृतिक सुंदरता है, जोकि अद्भुत दृश्य प्रस्तुत करती है। दार्जिलिंग से लगभग 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित घूम में बतासिया लूप के निर्माण के पीछे का उद्देश्य दार्जिलिंग इलाके को नेविगेशन के लिए आसान बनाना हैं। यहां से कंचन जंगा की बर्फीली पहाड़ियों का नजारा भी देखा जा सकता हैं।

दार्जिलिंग पर्यटन स्थल दुनिया भर में सबसे अधिक मनोरम हिल स्टेशन के रूप में जाना जाता हैं। दार्जिलिंग में खूबसूरत भू-छाया वाले पर्वतों से लेकर शानदार चाय के साथ-साथ बरामदे की खूबसूरत वादियों का नजारा आपकी नजरो के सामने होता हैं और पर्यटक इसका लुत्फ़ उठाते हुए नजर आते हैं। रोपवे से घूमते हुए यहा के शानदार नाजारो को देखना बहुत सुखद होता हैं। आप जब भी दार्जिलिंग की यात्रा पर जाए तो रोपवे का आनंद लेना न भूले।

दार्जिलिंग में देखने वाली जगह हिमालय पर्वतारोहण संस्थान

दार्जिलिंग में घूमने वाली जगह हिमालयन पर्वतारोहण संस्थान को दुनिया के सर्वश्रेष्ठ पर्वतारोहण संस्थानों में से एक माना जाता है। हिमालय पर्वतारोहण संस्थान को 4 नवंबर 1954 में स्थापित करने का उद्देश्य पर्वतारोहण के खेल में लोगों के हित और रूचि को प्रोत्साहित करना था। दुनिया भर से पर्वतारोही अपने कौशल को विकसित करने के लिए इस संस्थान में आते हैं और इसका लाभ उठाते हैं।

दार्जिलिंग में देखने लायक जगह नाइटेंगल पार्क

 

नाइटेंगल पार्क दार्जिलिंग में मंत्रमुग्ध करने वाले हिल स्टेशन में स्थित है और  नाइटेंगल पार्क को सार्वजनिक पार्क के रूप में भी जाना जाता हैं। पर्यटक यहां से कंचनजंघा पर्वतमाला के भव्य दृश्यों को देखने का अनुभव लेते हैं। नाइटेंगल पार्क को ब्रिटिश शासनकाल के दौरान सर थॉमस टार्टन के बंगले के एक निजी आंगन के रूप में ‘द श्रॉबरी’ के रूप में जाना जाता था। नाइटेंगल पार्क को नवीकरण करने के उद्देश्य से चार साल के लिए बंद कर दिया गया था और वर्ष 2011 में इसे पर्यटन के लिए फिर से खोल दिया गया हैं।

दार्जिलिंग में घूमने लायक जगह रॉक गार्डन

दार्जिलिंग में घूमने वाली जगह रॉक गार्डन एक उत्कृष्ट पिकनिक स्थल है और इसे प्राकृतिक रूप से चुन्नु ग्रीष्म ऋतु के नाम से भी जाना जाता है। जोकि दार्जिलिंग से 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह गार्डन बारबोटे रॉक गार्डन के रूप में भी प्रसिद्ध हैं और खूबसूरत पहाड़ी धारा से घिरा हुआ स्थान है। गार्डन में खूबसूरत फूल और प्राकृतिक परिवेश देखने को मिलता हैं।

दार्जिलिंग पर्यटन का मशहूर सिंगालीला राष्ट्रीय उद्यान

दार्जिलिंग का प्रसिद्ध सिंगालीला रेंज में समुद्र तल से लगभग 7000 फीट की ऊंचाई पर स्थित सिंगालीला राष्ट्रीय उद्यान एक शानदार पर्यटन स्थल हैं। यह वन्यजीव अभ्यारण राष्ट्रीय उद्यान में कुंवारी रोडोडेंड्रॉन वनों, अल्पाइन घाटी, जानवरों और ऑर्किड की दुर्लभ प्रजातियों के लिए जाना जाता हैं। सिंगालीला राष्ट्रीय उद्यान बहुत ही दुर्लभ विदेशी लाल पांडा और हिमालय के काले भालू के निवास स्थान के रूप में जाना जाता हैं।

दार्जिलिंग के आकर्षण स्थल संदकफू ट्रेक

दार्जिलिंग की प्रसिद्ध संदकफू ट्रेक पश्चिम बंगाल की सबसे ऊँची चोटी है और यहां पर ट्रेकिंग का आनंद लिया जा सकता हैं। सैंडकफू ट्रेक सिंगालीला नेशनल पार्क के बहुत करीब स्थित है। पश्चिम बंगाल की सबसे ऊँची चोटी संदकफू आपको दुनिया की पाँच सबसे ऊँची चोटियों में से चार का आकर्षित नजारा प्रस्तुत करती हैं। संदकफू ट्रेक पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता हैं।

दार्जिलिंग में एडवेंचर के लिए तीस्ता नदी में रिवर राफ्टिंग

दार्जलिंग में तीस्ता नदी में व्हाइट वाटर राफ्टिंग सबसे रोमांचक गतिविधियों में से एक है। एडवेंचर के दीवानों के लिए एक पसंदीदा जगह हैं जोकि राफ्टिंग में ग्रेड 1 से 4 तक के रैपिड्स की एक श्रृंखला है। हालांकि रोफ्टिंग के लिए केवल पेशेवरों या मौसमी प्रशिक्षकों को अनुमति दी जाती है क्योंकि इसमें जोखिम अधिक होता हैं।

दार्जिलिंग में घूमने वाली जगह पदमाजा नायडू हिमालयन जूलॉजिकल पार्क

पदमाजा नायडू जूलॉजिकल पार्क दार्जिलिंग में तरह तरह के जानवरों की घनी आबादी देखने को मिल जाती हैं। इसे दार्जिलिंग के एक खूबसूरत चिड़ियाघर के रूप में भी जाना जाता है और माना जाता हैं कि दार्जिलिंग सभी प्रकार के जानवरों के लिए स्वर्ग हैं। पदमाजा नायडू पार्क पशु प्रेमियों और प्रकृति के प्रति उत्साही लोगों के लिए एक आकर्षण का केंद्र हैं। पार्क में हिम तेंदुआ और लाल पांडाओं के लिए एक ऑफ-डिस्प्ले प्रजनन केंद्र भी बनाया गया हैं। इनके अलावा चिड़ियाघर में एशियाई काले भालू, भौंकने वाले हिरण, तेंदुए, नीले और पीले रंग के मैकॉ, हिमालयन वुल्फ, लेडी एमहर्स्ट, तेंदुए बिल्ली, मैकॉ, पूर्वी पैंगोलिन, तीतर, हिमालयी मोनाल, लाल जंगल फाउल भी पाए जाते हैं।

दार्जिलिंग घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

दार्जिलिंग घूमने का सबसे अच्छा समय अप्रैल से जून के महीनों के बीच होता है। इस दौरान जब देश के अन्य भागों में खूब गर्मी पड़ती है तब दार्जिलिंग का तापमान 14 से 8 डिग्री सेल्सियस के बीच होता है। इस दौरान यहां भारी संख्या में पर्यटक आते हैं। यदि आप ठन्डे मौसम का लुत्फ उठाना चाहते हैं तो नवंबर से दिसंबर के मध्य यहां आ सकते हैं। इन महीनों में यहां का तापमान 6 डिग्री सेल्सियस गिर जाता है और 1 डिग्री सेल्सियस तक कम हो जाता है। बारिश के मौसम में यहां भारी वर्षा होती है और भूस्खलन भी होता है इसलिए इस दौरान पर्यटक यहां कम आते हैं। दिसंबर से जनवरी के बीच आप यहां हनीमून मनाने वाले सलानियों भीड़ बहुत अधिक देखी जा सकती हैं। यदि आप एडवेंचर के शौकीन हैं तो फरवरी से जून के बीच कभी भी आ सकते हैं।

दार्जिलिंग के स्थानीय भोजन के लिए रेस्तरां आम तौर पर पश्चिम बंगाल से आते हैं, इसके अलावा देशी और विदेशी खाने का आनंद भी आप यहां ले सकते हैं। दार्जलिंग के प्रमुख भोजन में चावल, नूडल्स, बंगाली थाली और आलू अधिक पसंद किए जाते हैं। इसके अलावा मोमोज जैसे कुछ लोकप्रिय स्नैक्स के साथ चटनी परोसी जाती है। इसके अलावा स्नैक फूड,  पकौड़े, नॉन-वेज मोमोज में स्टफिंग के रूप में चिकन या पोर्क होता है, गोभी, दम आलू, पनीर और अन्य सब्जियां यहाँ चकने को मिल जाती हैं।

RELATED ARTICLES

केदारनाथ की तर्ज पर अब महासू देवता व जागेश्वर मंदिर का बनेगा मास्टर प्लान : पर्यटन मंत्री महाराज

देहरादून। श्री बद्रीनाथ, श्री केदारनाथ धाम की तर्ज पर अब हनोल स्थित महासू देवता और अल्मोड़ा स्थित जागेश्वर मंदिर के विकास हेतु मास्टर प्लान...

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज, भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान दिलीप वेंगसरकर ने विजेता व उपविजेता खिलाड़ियों को किया सम्मानित

टीम ब्ल्यू को हराकर टीम रेड ने जीता वनडे चैलेंजर्स कप का खिताब देहरादून। प्रथम स्व. अमर सिंह मेंघवाल मेमोरियल वूमेंस वनडे चैलेंजर्स ट्राफी में...

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में ही संभव हो सका जम्मू-कश्मीर में पंचायतों का गठन : मंत्री सतपाल महाराज

जम्मू-कश्मीर से आये सैकडों पंचायत प्रतिनिधियों ने की पंचायत मंत्री से भेंट देहरादून। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में ही जम्मू-कश्मीर में पंचायतों का गठन...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

राज्यपाल गुरमीत सिंह व मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने IAS राकेश को ‘World Book of Records’ के एक्सीलेंस अवार्ड से किया सम्मानित

उत्तराखंड, देहरादून। उत्तराखंड के राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) गुरमीत सिंह व मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राजभवन देहरादून में आयोजित कार्यक्रम में उत्तराखंड लोक सेवा...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से नेपाल के सांसद अमरेश कुमार सिंह ने शिष्टाचार भेंट की।

    उत्तराखंड, Dehradun: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से रविवार को मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में नेपाल के सांसद अमरेश कुमार सिंह ने शिष्टाचार भेंट की।

देहरादून स्मार्ट सिटी लिमिटेड की दून कनैक्ट सेवा के अंतर्गत 20 बसों का संचालन देहरादून शहर के 04 मार्गों पर पहले से किया  जा...

सीएम पुष्कर सिंह धामी ने 10 इलैक्ट्रिक बसों का शुभारंभ किया  आई०एस०बी०टी० से मालदेवता और आई०एस०बी०टी० से सहसपुर रोड चलेंगी इलैक्ट्रिक बसें देहरादून ; मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह...

केदारनाथ की तर्ज पर अब महासू देवता व जागेश्वर मंदिर का बनेगा मास्टर प्लान : पर्यटन मंत्री महाराज

देहरादून। श्री बद्रीनाथ, श्री केदारनाथ धाम की तर्ज पर अब हनोल स्थित महासू देवता और अल्मोड़ा स्थित जागेश्वर मंदिर के विकास हेतु मास्टर प्लान...

मसूरी कोल्हुखेत के पानीवाला बैंड पर स्थानीय लोगों ने लगाया जाम, सैंकड़ों वाहनों की लगी कतार

देहरादून। अतिक्रमण हटाओ अभियान के खिलाफ स्थानीय लोगों ने मसूरी कोल्हुखेत के पानीवाला बैंड पर जाम लगा दिया। सैकड़ों वाहन यहां जाम में फंसे हैं,...