Sunday, June 26, 2022
Home उत्तराखंड गुलदार ने मासूम को नोंच-नोंच कर खाया, शव देख परिजनों का फट...

गुलदार ने मासूम को नोंच-नोंच कर खाया, शव देख परिजनों का फट गया कलेजा

♦♦♦
भिलंगना ब्लॉक के अखोड़ी गांव में बीती शाम को गुलदार ने एक आठ साल के बच्चे को मौत के घाट उतार दिया। शनिवार देर शाम अखोड़ी गांव निवासी बालक नवीन आठ वर्षीय पुत्र सोहन सिंह रावत अपनी दादी के साथ गांव के पास में ही शादी में शामिल होने जा रहा था।

अपनी ही धुन में चल रहे मासूम नवीन को क्या पता था कि गुलदार घात  लगाए बैठा है। वह दादी से आगे-आगे चल रहा था। रास्ते में अचानक गुलदार ने उस पर हमला कर दिया। नवीन जब ना तो शादी में पहुंचा और ना ही घर तो परिजनों ने ढूंढ खोज शुरू की।

काफी तलाश के बाद देर रात नवीन का आधा खाया हुआ शव रास्ते के पास ही झाड़ियों के बीच से बरामद हुआ। सूचना पर वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची। गांव के लोगों ने वन विभाग से गुलदार को मार गिराने की मांग की है। ऐसा पहली बार नहीं हुआ कि गुलदार ने किसी मासूम को अपना निवाला बनाया।
आठ साल के मासूम को गुलदार नोंच-नोंच कर खा गया। परिजन बेटे को पूरी शाम गांव में ढूंढता रहे, लेकिन देर रात जिस हालत में शव मिला उसे देखकर सबका कलेजा फट गया।
परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया है। ग्रामीणों का कहना है कि पिछले तीन दिनों से गुलदार गांव के आसपास दिखाई दे रहा था।
टिहरी वन प्रभाग के डीएफओ बीके सिंह ने बताया कि अखोड़ी गांव में हुई घटना के संबंध में उच्च अधिकारियों को जानकारी दे दी गई है।
दूसरी ओर इस घटना से गांव में आक्रोश है। उनका कहना है कि वह अपने बच्चों को आपनी इस तरह मरता नहीं देख सकते। हर दिन वह दहशत में जी रहे हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

CM धामी ने लोकतंत्र सेनानियों के सम्मान समारोह कार्यक्रम में किया प्रतिभाग, 27 लोकतंत्र सेनानियों और उनके परिजनों को किया सम्मानित

 उत्तराखंड,  देहरादून :- मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शनिवार को बिगवाड़ा स्थित पार्टी कार्यालय पहुॅचकर ’’आपातकाल के दौरान लोकतंत्र की रक्षा हेतु संघर्ष करने एंव...

आपदा प्रबंधन में मीडिया की भूमिका पर कार्यशाला आयोजित हुई।

आपदा के दौरान मीडिया की होती है अहम भूमिका इस अवसर पर अपर सचिव आपदा प्रबंधन आनन्द श्रीवास्तव ने कहा कि मीडिया की भूमिका आपदा...