Wednesday, December 7, 2022
Home उत्तराखंड जानिए कौन है वरिष्ठ नौकरशाह अवनीश कुमार अवस्थी जिनके मुरीद हुए सीएम...

जानिए कौन है वरिष्ठ नौकरशाह अवनीश कुमार अवस्थी जिनके मुरीद हुए सीएम पुष्कर सिंह धामी

देहरादून। 

उत्तरप्रदेश के वरिष्ठ नौकरशाह अवनीश कुमार अवस्थी की कार्यशैली के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी मुरीद हो गए हैं। अवस्थी कुछ दिन पहले यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के उत्तराखंड प्रवास के दौरान हरिद्वार और यमकेश्वर पहुंचे थे। इन दोनों स्थानों पर योगी के कार्यक्रम के दौरान वरिष्ठ नौकरशाह ने जिस अंदाज में अपने कर्तव्य का निर्वहन किया, उसने सीएम धामी को उत्तराखंड की नौकरशाही के तौरतरीकों में झांकने को मजबूर कर दिया।

बुधवार को सुशासन पर एक महत्वपूर्ण बैठक के दौरान वरिष्ठ नौकरशाहों के सामने यूपी के नौकरशाह का नजीर देने से खुद को नहीं रोक पाए। प्रदेश के नौकरशाहों को नसीहत देने के अंदाज में उन्होंने कहा कि यूपी के एक एसीएस स्तर के अधिकारी स्वयं अतिथियों के पास जाकर उनका सत्कार कर रहे थे। उन्हें ऐसा करने के कोई निर्देश नहीं होंगे, लेकिन वह अपने मन से ऐसा कर रहे थे, ताकि सीएम, सरकार और शासन की छवि का अच्छा प्रभाव दिखे। आए अतिथियों को भी सम्मान महसूस हो।

सीएम ने प्रश्न छोड़ा कि क्या हमारे यहां तहसीलदार स्तर का अधिकारी भी ऐसा करेगा? मुख्यमंत्री के कहने का आशय यह था कि शासन, प्रशासन और जन सरोकारों से जुड़े सभी कार्यों के लिए हमेशा दिशा-निर्देशों की आवश्यकता नहीं होती। जनता को सुविधाएं मिलें, सरकारी तंत्र बेहतर ढंग से काम करे, इसके लिए अधिकारियों और कर्मचारियों को स्वतरू स्फूर्त ढंग से काम करना होता है।

मुख्यमंत्री से पहले मुख्य सचिव भी कर चुके हैं टिप्पणी
यूपी के 1987 बैच के आईएएस अधिकारी अवनीश कुमार अवस्थी का उदाहरण देकर मुख्यमंत्री ने प्रदेश की नौकरशाही को एक तरह से सीख भी देनी चाही ताकि वे अपनी कार्यशैली में बदलाव लाएं और दिलचस्पी के साथ सेवा भाव से काम करें। यह संयोग है कि प्रदेश की नौकरशाही के कामकाज के तौर-तरीकों को लेकर मुख्यमंत्री से पहले मुख्य सचिव भी टिप्पणी कर चुके हैं।

दो दिन पहले ही मुख्य सचिव डॉ. एसएस संधु को सचिवालय में तैनात सभी विभाग प्रमुखों को ताकीद करना पड़ा कि वे समीक्षा बैठकों में पूरी तैयारी के साथ आएं। यह बड़ा प्रश्न है कि उच्चाधिकारी बैठकों में शामिल होने से पहले विषयों की तैयारी क्यों नहीं करते? उन्हें बैठकों में जवाब देने के लिए अपने अधीनस्थों पर निर्भर क्यों रहना पड़ता है? जानकारों के मुताबिक यह भी देखना होगा कि बैठकों से पहले नौकरशाहों को उसमें शामिल होने के लिए कितना समय मिल रहा है।

कई बार विभागीय मंत्री और उच्चाधिकारियों की बैठकें एक ही दिन में कई बार समय के कम अंतर में होती हैं। राजभवन और विधानसभा के स्तर पर भी कई बार बैठकें बुलाई जाती हैं। इन बैठकों के मध्य मुख्यमंत्री की भी लगातार बैठकें होती हैं। इन बैठकों के बीच नौकरशाहों के पास होमवर्क का कितना समय बचता है, यह भी गौर करने वाली बात है। लेकिन सरकारी तंत्र की ये सारी व्यवस्थाएं उत्तरप्रदेश में भी हैं। इन सबके बीच अपर मुख्य सचिव स्तर के अधिकारी की स्वतरू स्फूर्त सक्रियता पर मुख्यमंत्री का कायल होना बेवजह नहीं है।

RELATED ARTICLES

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने होमगार्डस एवं नागरिक सुरक्षा के स्थापना दिवस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग किया।

उत्तराखंड; मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को ननूरखेड़ा, देहरादून में होमगार्डस एवं नागरिक सुरक्षा के स्थापना दिवस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग किया।...

SDM के सख्त निर्देश, हरकी पैड़ी क्षेत्र से दो दिन में हटाएं अतिक्रमण, वरना कब्जों पर चलेगी जेसीबी

उत्तराखंड, हरिद्वार ; हरिद्वार प्रशासन ने हरकी पैड़ी क्षेत्र के व्यापारियों को अतिक्रमण खुद हटाने के लिए दो दिन का समय दिया है। इसके बाद...

महाराज का एक्शन, हरकत में आये राष्ट्रीय राजमार्ग के अधिकारी

राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 121 की खराब गुणवत्ता के लिए संबंधित कंपनी पर तय की गयी जिम्मेदारी देहरादून  ; राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 121 (309) के किमी0 128.00...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने होमगार्डस एवं नागरिक सुरक्षा के स्थापना दिवस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग किया।

उत्तराखंड; मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को ननूरखेड़ा, देहरादून में होमगार्डस एवं नागरिक सुरक्षा के स्थापना दिवस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग किया।...

SDM के सख्त निर्देश, हरकी पैड़ी क्षेत्र से दो दिन में हटाएं अतिक्रमण, वरना कब्जों पर चलेगी जेसीबी

उत्तराखंड, हरिद्वार ; हरिद्वार प्रशासन ने हरकी पैड़ी क्षेत्र के व्यापारियों को अतिक्रमण खुद हटाने के लिए दो दिन का समय दिया है। इसके बाद...

महाराज का एक्शन, हरकत में आये राष्ट्रीय राजमार्ग के अधिकारी

राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 121 की खराब गुणवत्ता के लिए संबंधित कंपनी पर तय की गयी जिम्मेदारी देहरादून  ; राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 121 (309) के किमी0 128.00...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मुनस्यारी स्थित जोहार क्लब मैदान में आयोजित मुनस्यारी महोत्सव 2022 का किया शुभारंभ।

 उत्तराखंड,  देहरादून : मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को मुनस्यारी स्थित जोहार क्लब मैदान में आयोजित मुनस्यारी महोत्सव 2022 का शुभारंभ किया। इस अवसर...

पशुपालन मंत्री सौरभ बहुगुणा ने गोवंश भरण पोषण हेतु 10 करोड़ 48 लाख रुपये की धनराशि के चेक किए वितरित

देहरादून। प्रदेश के पशुपालन मंत्री सौरभ बहुगुणा ने पशुधन भवन सभागार में गैर सरकारी संस्थाओं द्वारा संचालित 39 गो सदनों हेतु गोवंश भरण पोषण हेतु...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से बागपत के सांसद एवं पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ. सत्यपाल सिंह ने शिष्टाचार भेंट की।

    उत्तराखंड, देहरादून : मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से सोमवार को मुख्यमंत्री आवास में बागपत के सांसद एवं पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ. सत्यपाल...

राज्यपाल गुरमीत सिंह व मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने IAS राकेश को ‘World Book of Records’ के एक्सीलेंस अवार्ड से किया सम्मानित

उत्तराखंड, देहरादून। उत्तराखंड के राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) गुरमीत सिंह व मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राजभवन देहरादून में आयोजित कार्यक्रम में उत्तराखंड लोक सेवा...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से नेपाल के सांसद अमरेश कुमार सिंह ने शिष्टाचार भेंट की।

    उत्तराखंड, Dehradun: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से रविवार को मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में नेपाल के सांसद अमरेश कुमार सिंह ने शिष्टाचार भेंट की।

देहरादून स्मार्ट सिटी लिमिटेड की दून कनैक्ट सेवा के अंतर्गत 20 बसों का संचालन देहरादून शहर के 04 मार्गों पर पहले से किया  जा...

सीएम पुष्कर सिंह धामी ने 10 इलैक्ट्रिक बसों का शुभारंभ किया  आई०एस०बी०टी० से मालदेवता और आई०एस०बी०टी० से सहसपुर रोड चलेंगी इलैक्ट्रिक बसें देहरादून ; मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह...

केदारनाथ की तर्ज पर अब महासू देवता व जागेश्वर मंदिर का बनेगा मास्टर प्लान : पर्यटन मंत्री महाराज

देहरादून। श्री बद्रीनाथ, श्री केदारनाथ धाम की तर्ज पर अब हनोल स्थित महासू देवता और अल्मोड़ा स्थित जागेश्वर मंदिर के विकास हेतु मास्टर प्लान...