Home उत्तराखंड अग्निपथ योजना के खिलाफ पदयात्रा विरोध की रस्म अदायगी :...

अग्निपथ योजना के खिलाफ पदयात्रा विरोध की रस्म अदायगी : प्रदेश मीडिया प्रभारी मनवीर सिंह चौहान

 उत्तराखंड, देहरादून ;

भाजपा ने अग्निपथ योजना को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश रावत की अगुवाई मे कथित वरिष्ठ नागरिकों के विरोध और पदयात्रा को विरोध की रस्म करार दिया है। पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनवीर सिंह चौहान ने कहा कि कांग्रेस और अन्य दल राष्ट्र हित की किसी भी योजना का परम्परागत रूप से विरोध करते रहे हैं और इसमें कुछ नया नहीं है।

कॉंग्रेस और उनके सहयोगी योजना की सत्य से मुंह फेर रहे हैं और युवाओं को बरगलाने का कार्य कर रहे हैं। विपक्ष योजना को लेकर हो हल्ला मचा रहा है जबकि इन झूठे आरोपों का जबाब स्वयं उन 2 लाख 1 हज़ार 48 से अधिक युवाओं ने दे दिया है जिन्होने मात्र एक सप्ताह में ही वायुसेना के अग्निवीर भर्ती के लिए आवेदन किया है । लंबे समय से सभी मुद्दों पर झूठ फैलाकर जनता को भरमाने की राजनीति करती आ रही कांग्रेस की अगुवाई मे वरिष्ठ नागरिकों का प्रदर्शन इसी रणनीति का हिस्सा है । उन्होने कहा कि कॉंग्रेस और विपक्ष हाल में जारी वायुसेना अग्निवीर भर्ती प्रक्रिया के उत्साह बढ़ाने वाले आंकड़ों को जानबूझ कर देखना नहीं चाहती अन्यथा उन्हे इस योजना के विरोध का जबाब मिल जाता । उन्होने कहा कि मात्र तीन दिन में 3000 वायुसैनिक अग्निवीर बनने के लिए रिकॉर्ड 2 लाख 1 हज़ार 1 सौ 48 युवाओं ने आवेदन किया है, जबकि अभी 5 जुलाई तक आवेदन करने की तारीख है लिहाजा अभी यह आंकड़ा कई लाखों में पहुँचने वाला है ।

योजना को सेना व सैनिकों को कमजोर करने वाला बताने वाली कॉंग्रेस ने तीन दशक तक सैन्य आधुनिकीकरण को रोक कर देश की ताकत को कमजोर करने का काम किया और आधुनिक हथियार व बुलेटप्रूफ जैकेट की ख़रीदारी को गैरजरूरी बताते हुए सैनिकों की जान को खतरे में डाले रखा। इसके अलावा राफेल जैसे उच्च तकनीक के फाइटर जेट को दस वर्ष तक उलझाया। चौहान ने कहा कि सुरक्षा के लिए सजग रहने का दावा करने वाली कांग्रेस की हकीकत यह है कि उनके कार्यकाल मे रक्षा मंत्री संसद में देश की सीमाओं की सामरिक ताकत बढ़ाने वाले कार्यों को नहीं करवाने का तर्क देते रहे। ऐसे में उनसे देश की सैन्य ताकत और सैनिकों की क्षमता बढ़ाने वाली अग्निवीर योजना को समझने की उम्मीद करना बेमानी है । आज युवा इस योजना को बखूबी समझ चुका है जिसका परिणाम वायु सेना भर्ती के लिए आए आवेदनों में नज़र आ रहा है और आने वाली थल सेना व अन्य अग्निबीर भर्तियों में यह उत्साह कई गुना बढेगा।

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post