Thursday, February 2, 2023
Home उत्तराखंड उत्‍तराखंड में बिना आराम बस दौड़ा रहे रोडवेज ड्राइवर दे रहे हादसे...

उत्‍तराखंड में बिना आराम बस दौड़ा रहे रोडवेज ड्राइवर दे रहे हादसे को न्‍यौता, जानिए क्या हैं नियम

देहरादून। 

चालक को बिना आराम दिए और निर्धारित किलोमीटर से अधिक बस संचालित कराने में निजी बस आपरेटर ही नहीं, बल्कि उत्तराखंड परिवहन निगम (रोडवेज) भी शामिल है। रोडवेज की बसों में 300 किमी से अधिक दूरी वाले मार्गों पर एक बस में दो चालक भेजने का नियम है, लेकिन यहां एक ही चालक से 500 से 600 किमी रोजाना बस चलवाई जा रही है। दरअसल, लंबी दूरी वाले मार्गों पर ज्यादातर बसों का संचालन विशेष श्रेणी व संविदा के चालक करते हैं, लिहाजा कमाई के चक्कर में ये चालक दोहरी ड्यूटी से इन्कार नहीं कर पाते।

इन चालकों को प्रति किमी के हिसाब से भुगतान होता है, इसलिए ज्यादा मानदेय के चक्कर में वह बिना आराम किए ही बस दौड़ाते हैं। कई बस चालक तो नींद में होने के बावजूद बसों का संचालन करते हैं। दो साल पूर्व ऐसे ही एक मामले में टनकपुर मार्ग के चालक की हरिद्वार में बस हादसे में मौत हो चुकी है। इस चालक से रोडवेज अधिकारियों ने बिना आराम दिए लगातार 1400 किमी बस संचालित कराई थी।

अब रविवार को उत्तरकाशी जिले में चारधाम यात्रा पर आए मध्य प्रदेश के श्रद्धालुओं की बस के दुर्घटनाग्रस्त होने का कारण भी चालक का नींद में होना बताया जा रहा है। हालांकि, यह बस निजी थी, मगर सवाल पूरी व्यवस्था पर खड़ा हो गया है। चारधाम यात्रा में रोडवेज बसें भी लगाई गई हैं, ऐसे में कर्मचारी संगठनों ने चालकों को आराम देने का मामला उठाना शुरू कर दिया है।

रोडवेज के विशेष श्रेणी और संविदा चालकों से एक माह में 10-10 हजार किमी तक बस संचालन कराया जा रहा है, जबकि नियम माह में ड्यूटी के 26 दिन में प्रतिदिन 300 किमी तक बस संचालन का ही है। रोडवेज के देहरादून ग्रामीण डिपो के रिकार्ड पर ही नजर डालें तो यहां तैनात तकरीबन 200 चालकों में से आधे चालकों ने मई में 10-10 हजार किमी बस संचालित की। मानक के तहत चालक को एक दिन में सिर्फ आठ घंटा स्टेयरिंग पर ड्यूटी कराई जा सकती है। फिर नौ घंटे आराम देने का नियम है, लेकिन चालकों से तय समय से अधिक ड्यूटी कराई जा रही है।

महाप्रबंधक रोडवेज दीपक जैन ने कहा कि नियमों के विपरीत बस संचालन किसी चालक से नहीं कराया जा रहा। आदेश दिए गए हैं कि एक चालक अगर आठ घंटे तक बस संचालन करता है तो उसे नौ घंटे तक आराम दिया जाए। अगर कोई चालक तय आठ घंटे से अधिक बस संचालन करता है तो उसे चार घंटे अतिरिक्त बस संचालन पर एक दिन का आराम दिया जाता है। मानक के अनुसार लंबी दूरी वाले मार्गों पर एक बस में दो चालक भेजे जा रहे हैं।

महामंत्री उत्तरांचल रोडवेज कर्मचारी यूनियन अशोक चौधरी प्रदेश ने कहा कि चालकों को बिना आराम दिए पूरा दिन बस संचालन कराया जा रहा है। विशेष श्रेणी व संविदा के चालक एक माह में 10-10 हजार किमी तक बस संचालन कर रहे हैं। इससे हादसे का खतरा बना रहता है। यह स्थिति तभी सुधर सकती है, जब चालकों को मिलने वाला मानदेय दोगुना किया जाए या उन्हें नियमित किया जाए।

RELATED ARTICLES

महाराज ने हास्पिटल सहित अपने क्षेत्र को दी 100 करोड़ 70 लाख की योजनायें

एकेश्वर (पौडी)। प्रदेश के पंचायती राज, पर्यटन, लोक निर्माण, सिंचाई, ग्रामीण निर्माण, जलागम, धर्मस्व एवं संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने अपने विधानसभा क्षेत्र एकेश्वर...

उत्तराखण्ड की झांकी को देश में प्रथम स्थान के लिये किया गया पुरस्कृत

उत्तराखंड, Dehradun ; कर्तव्य पथ, नई दिल्ली गणतंत्र दिवस समारोह में उत्तराखण्ड राज्य की ओर से “मानसखण्ड” की झांकी प्रदर्शित की गई थी मुख्यमंत्री...

जोशीमठ क्षेत्र में हो रहे भूधंसाव व भूस्खलन के सम्बन्ध में अपर मुख्य सचिव आनन्दवर्धन की अध्यक्षता में उच्चाधिकार प्राप्त समिति की बैठक हुई

पुनर्वास एवं विस्थापन हेतु जिलाधिकारी, चमोली द्वारा प्रस्तुत 03 विकल्प पुनर्वास एवं विस्थापन हेतु विकल्पों के सम्बन्ध में शासन स्तर पर माननीय मंत्रिमण्डल के समक्ष...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

महाराज ने हास्पिटल सहित अपने क्षेत्र को दी 100 करोड़ 70 लाख की योजनायें

एकेश्वर (पौडी)। प्रदेश के पंचायती राज, पर्यटन, लोक निर्माण, सिंचाई, ग्रामीण निर्माण, जलागम, धर्मस्व एवं संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने अपने विधानसभा क्षेत्र एकेश्वर...

उत्तराखण्ड की झांकी को देश में प्रथम स्थान के लिये किया गया पुरस्कृत

उत्तराखंड, Dehradun ; कर्तव्य पथ, नई दिल्ली गणतंत्र दिवस समारोह में उत्तराखण्ड राज्य की ओर से “मानसखण्ड” की झांकी प्रदर्शित की गई थी मुख्यमंत्री...

जोशीमठ क्षेत्र में हो रहे भूधंसाव व भूस्खलन के सम्बन्ध में अपर मुख्य सचिव आनन्दवर्धन की अध्यक्षता में उच्चाधिकार प्राप्त समिति की बैठक हुई

पुनर्वास एवं विस्थापन हेतु जिलाधिकारी, चमोली द्वारा प्रस्तुत 03 विकल्प पुनर्वास एवं विस्थापन हेतु विकल्पों के सम्बन्ध में शासन स्तर पर माननीय मंत्रिमण्डल के समक्ष...

धामी राज में हासिल हुई एक और बड़ी उपलब्धि, उत्तराखंड की झांकी मानसखंड को पहला पुरस्कार, टीम लीडर केएस चौहान के नेतृत्व में मिली...

देहरादून। गणतंत्र दिवस की परेड में कर्तव्य पथ पर शामिल उत्तराखंड की मानसखंड झांकी को पहला पुरस्कार मिला है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इस...

महाराज ने दिये “नंदा गौरा देवी कन्या धन योजना” आवेदन की तिथि बढ़ाने के निर्देश

देहरादून। प्रदेश के पंचायती राज मंत्री सतपाल महाराज ने महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग के सचिव हरिश्चंद्र सेमवाल को "नंदा गौरा देवी कन्या...

आयुक्त दीपक रावत ने लाईन नम्बर-8 व 12 वनभूलपुरा में अवैध भवन निर्माण के ध्वस्तीकरण के मौके पर निर्देश दिये ।

उत्तराखंड, हल्द्वानी। आयुक्त दीपक रावत ने लाईन नम्बर-8 व 12 वनभूलपुरा में अवैध भवन निर्माण के ध्वस्तीकरण के मौके पर दिये निर्देश। सोमवार सायं आयुक्त...

कर्तव्य पथ पर पहली बार गणतंत्र दिवस परेड में उत्तराखंड की झांकी ने प्रथम स्थान पाकर बनाया इतिहास

देहरादून  गणतंत्र दिवस परेड को अभी तक राजपथ के नाम से जाना जाता था, किंतु इस वर्ष उसका नाम बदलकर कर्तव्य पथ रखा गया है।...

मुख्यमंत्री के निर्देशों पर आयोजित हो रहे “विद्युत समस्या समाधान शिविर“ में आमजन की समस्याओं का प्राथमिकता पर हो रहा निस्तारण

1400 से अधिक  शिकायतों का अब तक किया गया मौके पर निराकरण कैम्पों में बिजली के बिलों में गड़बड़ी, खराब मीटर, लो वोल्टेज, ट्रांसफार्मर आदि...

उत्तराखंड में स्पेशलिस्ट डॉक्टर्स की कमी को दूर करने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने तैयार किया मास्टर प्लान

देहरादून। उत्तराखंड में अब स्पेशलिस्ट डॉक्टर्स की कमी को दूर करने के लिए मास्टर प्लान तैयार किया गया है । राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बच्चों के साथ सुनी प्रधानमंत्री की मन की बात

देहरादून राष्ट्रीय दृष्टि दिव्यांगजन सशक्तिकरण संस्थान के बच्चों के साथ सुनी मन की बात सीएम ने संस्थान के बच्चों से भी की बातचीत ...