Sunday, June 26, 2022
Home राष्ट्रीय जनजातीय कल्याण सरकार की प्राथमिकता : केंद्रीय गृह मंत्री शाह

जनजातीय कल्याण सरकार की प्राथमिकता : केंद्रीय गृह मंत्री शाह

मध्य-प्रदेश ;

केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह ने कहा है कि जनजातीय वर्ग के कल्याण पर अब कई गुना अधिक व्यय किया जा रहा है। यह सरकार की प्रतिबद्धता का प्रमाण है। केन्द्रीय मंत्री शाह ने कहा कि जनजातीय संस्कृति के संरक्षण में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय, अमरकंटक की महत्वपूर्ण भूमिका हैं। जनजातीय संस्कृति से जुड़े साहित्य, लोक संगीत और लोक कलाओं की अपनी विशेषताएँ हैं। अमरकंटक अंचल अनेक दुर्लभ औषधियों को अपनी धरा में समाए हुए है, जो रोग निवारण में अति उपयोगी हैं। अमरकंटक से ही आदि शंकराचार्य जी ने एक बालक से एक विभूति के रूप में जीवन का पथ चुना। यहाँ करोड़ों लोगों की जीवनदायिनी नर्मदा नदी का उद्गम स्थल भी है। विश्वविद्यालय स्वतंत्रता संग्राम में जनजातीय नायकों के योगदान को सम्पूर्ण समाज के समक्ष प्रस्तुत करने का माध्यम भी बने।

केन्द्रीय गृह मंत्री शाह आज इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय, अमरकंटक के परिसर में नवनिर्मित शैक्षणिक आवास भवन और कृषि उपज भंडारण गृह के शुभारंभ समारोह को मुख्य अतिथि के रूप में नई दिल्ली से वर्चुअली संबोधित कर रहे थे। शाह ने कहा कि एक समय था जब जनजातीय विकास पर इतना जोर नहीं दिया जाता था। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में जनजातीय मंत्रालय की भूमिका महत्वपूर्ण बनी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नवीन शिक्षा नीति से सामर्थ्य, पहुँच, गुणवत्ता, निष्पक्षता और जवाबदेही पर आधारित कार्य पर बल दिया है। जनजातीय विश्वविद्यालय द्वारा शिक्षा नीति का क्रियान्वयन सराहनीय है।

जनजातीय विकास के लिए बजट भी बढ़ा और फोकस भी

केन्द्रीय गृह मंत्री शाह ने कहा कि भारत सरकार ने जनजातीय वर्ग के कल्याण के लिए बजट को बढ़ाने के साथ ही जनजातीय विकास पर फोकस किया है। वर्ष 2013-14 में आदिवासी उपयोजना पर 21 हजार करोड़ रूपये की राशि ही व्यय होती थी, जो बढ़कर 86 हजार करोड़ रूपये हो चुकी है। यह चार गुना वृद्धि है। हर घर नल योजना में सवा करोड़ से अधिक जनजातीय परिवारों तक स्वच्छ पीने का पानी पहुँचा है। यही नहीं 82 लाख से अधिक आयुष्मान कार्ड जारी किए गए हैं। देश में 38 लाख जनजातीय बंधुओं के आवास तैयार हुए हैं। किसानों को दी जाने वाली पीएम सम्मान निधि का लाभ भी 3 करोड़ से अधिक जनजातीय वर्ग के किसानों को मिला है। एकलव्य मॉडल स्कूल जो वर्ष 2013-14 में मात्र 278 थे, आज उनकी संख्या बढ़ कर 1418 हो गई है। प्रति विद्यार्थी सालाना व्यय भी मात्र 42 हजार था, जो आज एक लाख 9 हजार तक पहुँच चुका है। शिक्षा पर होने वाले व्यय 1000 करोड़ को 25 सौ करोड़ रूपये तक पहुँचाया गया है।

 संघर्ष नहीं विमर्श है समाधान का मार्ग

केन्द्रीय गृह मंत्री शाह ने कहा कि जनताजीय वर्ग को भटकाने वाले लोगों से बचाने की आवश्यकता है। इस विश्वविद्यालय के स्तर पर जनजातीय वर्ग से जुड़े कानूनों पर शोध होना चाहिए। शाह ने कहा कि संघर्ष के स्थान पर विमर्श और संवाद प्रत्येक समस्या का समाधान है। इसलिए इस माध्यम से ही अलगाव को रोकने में भी सफलता मिल सकती है। गृह मंत्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी भी संवाद में विश्वास रखते हैं। चर्चा के लिए सरकार के द्वार सदैव खुले हुए हैं।

विश्वविद्यालय जनजातीय नायकों के योगदान को रेखांकित करें

केन्द्रीय गृह मंत्री शाह ने कहा कि स्थानीय विशिष्ट औषधियों के संबंध में जानकारियों का प्रसार होना चाहिए। विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों द्वारा जनजातीय नायकों के योगदान को सामने लाने का कार्य हो। यह योगदान प्रभावशाली ढंग से रेखांकित किया जाए। मध्यप्रदेश ऐसे नायकों की भूमि रही है। शंकर शाह और रघुनाथ शाह की शहादत और पराक्रम से विद्यार्थियों को अवगत कराया जाए। चार सौ एकड़ भूमि पर चार हजार विद्यार्थियों वाले इस विश्वविद्यालय की स्थापना का उद्देश्य तब सार्थक होगा जब जनजातीय गौरव और संस्कृति को बढ़ाने के साथ ही जनजातीय वर्ग को मुख्यधारा में लाने के लिए समर्पण की भावना से कार्य हो। विश्वविद्यालय के मणिपुर स्थित क्षेत्रीय परिसर को भी यह भूमिका निभाना चाहिए। देश के विभिन्न अंचलों में जनजातीय वर्ग के नायकों ने जो संघर्ष किया था, उसकी जानकारी भी सामने आना चाहिए। ऐसे अंचलों में अंडमान निकोबार भी शामिल है।

जनजातीय वर्ग ने समाज को मजबूत किया है: मुख्यमंत्री चौहान

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जनजातीय वर्ग का गौरवशाली इतिहास है। इनकी अनूठी संस्कृति है। जनजातीय वर्ग के लोग सीधे, सहज और सरल हैं, लेकिन स्वतंत्रता आंदोलन में इनका अदभुत योगदान रहा है। हमारा इतिहास अंग्रेजों की नजर से देखा गया। आज जनजातीय नायकों के योगदान की जानकारी विद्यार्थियों को देना आवश्यक है। विश्वविद्यालय इस बात को आम जनता तक ले जाए। जनजातीय वर्ग को कौशल उन्नयन का लाभ देकर उन्हें वैश्विक पटल पर स्थापित करने का कार्य हो।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि यह प्रसन्नता की बात है इस विश्वविद्यालय में भारत सरकार की केंद्रीय राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के सभी आयामों को नीति की मूल भावना के साथ क्रियान्वित किया जा रहा है। इसके लिए विश्वविद्यालय बधाई का पात्र है। मुझे विश्वास है कि विश्वविद्यालय शिक्षा के माध्यम से हमारे जनजातीय बेटे-बेटियों के जीवन में एक क्रांतिकारी बदलाव लाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में आबादी का 21 प्रतिशत हिस्सा जनजातीय समाज निवास करता है। उनके जीवन मूल्य, परम्पराएँ और गौरवशाली इतिहास से देश गौरवान्वित है। सबको साथ लेकर चलने वाले इस समाज ने सबको मजबूत करने का काम किया है।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि हमारी संस्कृति के अलग-अलग रंग हैं, इनमें एक जनजातीय रंग भी है। भगवान बिरसा मुंडा से लेकर टंटया भील, शंकरशाह, रघुनाथ शाह, भीमा नायक, वीर खाज्या नायक और अन्य अनेक जनजातीय नायकों ने आजादी की लड़ाई लड़ी। इनके योगदान से सम्पूर्ण समाज को अवगत करवाया जा रहा है। जनजातीय वर्ग के पास देशज चिकित्सा विज्ञान की पूँजी है। मध्यप्रदेश सरकार ने देवारण्य योजना से जनजातीय अंचल में पाई जाने वाली औषधियों के संग्रहण और प्र-संस्करण के प्रयास किए हैं। कोरोना काल में भी हमारी प्राकृतिक चिकित्सा और वनोत्पाद लाखों लोगों की जीवन रक्षा में काम आए। मुख्यमंत्री चौहान ने केंद्रीय गृह मंत्री श्री शाह को आजादी के अमृत महोत्सव में अमरकंटक आकर नर्मदा मैया का उद्गम स्थल, प्रकृति का सौंदर्य और जनजातीय विश्वविद्यालय परिसर देखने के लिए आमंत्रित किया।

विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ. मुकुल ईश्वरलाल शाह, कुलपति प्रो. श्री प्रकाश मणि त्रिपाठी ने केंद्रीय गृह मंत्री का स्वागत किया और विश्वविद्यालय के उद्देश्यों एवं गतिविधियों की जानकारी दी। कुल सचिव पी. सिलुवैनाथन ने धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का दीप जलाकर एवं वंदना के साथ शुभारंभ हुआ। विश्वविद्यालय का कुलगीत भी प्रस्तुत किया गया। समापन सामूहिक राष्ट्रगान के साथ हुआ।

RELATED ARTICLES

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में केंद्रीय गृह व सहकारिता मंत्री अमित शाह से शिष्टाचार भेंट की।

उत्तराखंड, दिल्ली ; मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शुक्रवार को नई दिल्ली में केंद्रीय गृह व सहकारिता मंत्री अमित शाह से शिष्टाचार भेंट की। मुख्यमंत्री ने...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत से शिष्टाचार भेंट की।

नई दिल्ली / देहरादून :- मुख्यमंत्री ने जमरानी बाँध परियोजना पर शीघ्र कार्य प्रारम्भ कराये जाने के लिए प्रस्तावित परियोजना को प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (वृहत...

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रणजी ट्रॉफी फाइनल में विजय प्राप्त करने के लिए मध्यप्रदेश की क्रिकेट टीम को शुभकामनाएं दी

मध्य-प्रदेश, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रणजी ट्रॉफी फाइनल में विजय प्राप्त करने के लिए मध्यप्रदेश की क्रिकेट टीम को शुभकामनाएं दी हैं। रणजी ट्रॉफी...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post