Wednesday, December 7, 2022
Home उत्तराखंड मुनाफा कमाने की फेर में मानकों का उल्लघंन कर क्षमता से अधिक...

मुनाफा कमाने की फेर में मानकों का उल्लघंन कर क्षमता से अधिक पर्यटकों बैठाया जा रहा राफ्ट पर, लाइफ जैकेट में नहीं ‘लाइफ’

ऋषिकेश….

राफ्ट व्यवसायी अधिक मुनाफा कमाने की फेर में 11 से 12 पर्यटकों को राफ्ट पर बैठा लेते हैं। कई राफ्ट में क्याक भी नहीं भेज जाती है। पर्यटकों को खानापूर्ति के लिए लाइफ जैकेट और हेलमेट पहना दिया जाता है, जिनमें कई लाइफ जैकेट पुरानी हैं। यही कारण है कि गंगा की उफनती लहरों में राफ्ट पलटने से अचानक पर्यटकों की लाइफ जैकेट खुल जाती है।

बीते शनिवार शाम फूलचट्टी के पास गंगा नदी में राफ्टिंग के दौरान गोल्फ कोर्स रैपिड में कोलकाता का एक पर्यटक लापता हो गया। रैपिड में गिरते ही पर्यटक की लाइफ जैकेट खुल गई। इसके चलते वह गंगा की लहरों में ओझल हो गया। इस घटना से पर्यटक विभाग की निगरानी व्यवस्था पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। राफ्ट व्यवसायी धड़ल्ले से राफ्टिंग के दौरान क्षमता से अधिक पर्यटकों बैठा रहे हैं। वहीं सुरक्षा मानकों की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। अधिक मुनाफा कमाने की फेर में राफ्टिंग व्यवसायी पर्यटकों की जान से खिलवाड़ कर रही हैं।

योगनगरी में मुंबई, कोलकाता, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान समेत विभिन्न प्रांतों के पर्यटक यहां राफ्टिंग के लिए पहुंचते हैं। सुबह से लेकर शाम तक कौड़ियाला, मरीन ड्राइव, शिवपुरी, ब्रह्मपुरी और क्लब हाउस राफ्टिंग प्वांइट सैलानियों से पैक रहता है। राफ्ट में आठ पर्यटकों के अलावा एक गाइड और एक हेल्पर बैठता है। साथ ही एक राफ्ट के साथ सुरक्षा के तहत एक क्याक भी चलती है, लेकिन राफ्ट व्यवसायी अधिक मुनाफा कमाने की फेर में 11 से 12 पर्यटकों को राफ्ट पर बैठा लेते हैं। कई राफ्ट में क्याक भी नहीं भेज जाती है। पर्यटकों को खानापूर्ति के लिए लाइफ जैकेट और हेलमेट पहना दिया जाता है, जिनमें कई लाइफ जैकेट पुरानी हैं। यही कारण है कि गंगा की उफनती लहरों में राफ्ट पलटने से अचानक पर्यटकों की लाइफ जैकेट खुल जाती है।

ये हैं सुरक्षा के मानक
– एक राफ्ट में केवल आठ पर्यटकों को राफ्टिंग की अनुमति।
– एक राफ्ट में पर्यटकों के साथ एक गाइड और एक हेल्पर अनिवार्य।
– गाइड, हेल्पर और सभी पर्यटकों को सुरक्षा उपकरण हेलमेट और लाइफ जैकेट पहनना अनिवार्य।
– नदी में उतरने से पहले सभी पर्यटकों का लाइफ जैकेट को मजबूती से बांधना और फिर उसकी जांच करना अनिवार्य।
– एक राफ्ट के साथ सुरक्षा के तहत एक क्यार्क्स का होना अनिवार्य।

सूर्योदय और सूर्यास्त के बाद नहीं कर सकते राफ्टिंग
नियमानुसार सूर्योदय के बाद और सूर्यास्त से पहले ही राफ्टिंग की जा सकती है। सूर्योदय से पहले और सूर्यास्त के गंगा में राफ्ट उतारना मना होता है, लेकिन ज्यादा फेर लगाने के चक्कर में राफ्टिंग व्यवसायी दिन छिपने के बाद राफ्ट को रवाना कर देते हैं। ऐसे में अगर राफ्ट पलटने से कोई पर्यटक बहता है तो एसडीआरएफ को भी रेस्क्यू अभियान में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

विभागीय स्तर पर इसकी जांच की जा रही है। राफ्टिंग व्यवसायियों को इस ओर सख्त दिशा-निर्देश दिए जाएंगे। दोषी पाए जाने वाले के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। -अतुल भंडारी, जिला पर्यटन अधिकारी टिहरी।

 

RELATED ARTICLES

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने होमगार्डस एवं नागरिक सुरक्षा के स्थापना दिवस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग किया।

उत्तराखंड; मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को ननूरखेड़ा, देहरादून में होमगार्डस एवं नागरिक सुरक्षा के स्थापना दिवस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग किया।...

SDM के सख्त निर्देश, हरकी पैड़ी क्षेत्र से दो दिन में हटाएं अतिक्रमण, वरना कब्जों पर चलेगी जेसीबी

उत्तराखंड, हरिद्वार ; हरिद्वार प्रशासन ने हरकी पैड़ी क्षेत्र के व्यापारियों को अतिक्रमण खुद हटाने के लिए दो दिन का समय दिया है। इसके बाद...

महाराज का एक्शन, हरकत में आये राष्ट्रीय राजमार्ग के अधिकारी

राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 121 की खराब गुणवत्ता के लिए संबंधित कंपनी पर तय की गयी जिम्मेदारी देहरादून  ; राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 121 (309) के किमी0 128.00...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने होमगार्डस एवं नागरिक सुरक्षा के स्थापना दिवस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग किया।

उत्तराखंड; मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को ननूरखेड़ा, देहरादून में होमगार्डस एवं नागरिक सुरक्षा के स्थापना दिवस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग किया।...

SDM के सख्त निर्देश, हरकी पैड़ी क्षेत्र से दो दिन में हटाएं अतिक्रमण, वरना कब्जों पर चलेगी जेसीबी

उत्तराखंड, हरिद्वार ; हरिद्वार प्रशासन ने हरकी पैड़ी क्षेत्र के व्यापारियों को अतिक्रमण खुद हटाने के लिए दो दिन का समय दिया है। इसके बाद...

महाराज का एक्शन, हरकत में आये राष्ट्रीय राजमार्ग के अधिकारी

राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 121 की खराब गुणवत्ता के लिए संबंधित कंपनी पर तय की गयी जिम्मेदारी देहरादून  ; राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 121 (309) के किमी0 128.00...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मुनस्यारी स्थित जोहार क्लब मैदान में आयोजित मुनस्यारी महोत्सव 2022 का किया शुभारंभ।

 उत्तराखंड,  देहरादून : मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को मुनस्यारी स्थित जोहार क्लब मैदान में आयोजित मुनस्यारी महोत्सव 2022 का शुभारंभ किया। इस अवसर...

पशुपालन मंत्री सौरभ बहुगुणा ने गोवंश भरण पोषण हेतु 10 करोड़ 48 लाख रुपये की धनराशि के चेक किए वितरित

देहरादून। प्रदेश के पशुपालन मंत्री सौरभ बहुगुणा ने पशुधन भवन सभागार में गैर सरकारी संस्थाओं द्वारा संचालित 39 गो सदनों हेतु गोवंश भरण पोषण हेतु...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से बागपत के सांसद एवं पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ. सत्यपाल सिंह ने शिष्टाचार भेंट की।

    उत्तराखंड, देहरादून : मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से सोमवार को मुख्यमंत्री आवास में बागपत के सांसद एवं पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ. सत्यपाल...

राज्यपाल गुरमीत सिंह व मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने IAS राकेश को ‘World Book of Records’ के एक्सीलेंस अवार्ड से किया सम्मानित

उत्तराखंड, देहरादून। उत्तराखंड के राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) गुरमीत सिंह व मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राजभवन देहरादून में आयोजित कार्यक्रम में उत्तराखंड लोक सेवा...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से नेपाल के सांसद अमरेश कुमार सिंह ने शिष्टाचार भेंट की।

    उत्तराखंड, Dehradun: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से रविवार को मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में नेपाल के सांसद अमरेश कुमार सिंह ने शिष्टाचार भेंट की।

देहरादून स्मार्ट सिटी लिमिटेड की दून कनैक्ट सेवा के अंतर्गत 20 बसों का संचालन देहरादून शहर के 04 मार्गों पर पहले से किया  जा...

सीएम पुष्कर सिंह धामी ने 10 इलैक्ट्रिक बसों का शुभारंभ किया  आई०एस०बी०टी० से मालदेवता और आई०एस०बी०टी० से सहसपुर रोड चलेंगी इलैक्ट्रिक बसें देहरादून ; मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह...

केदारनाथ की तर्ज पर अब महासू देवता व जागेश्वर मंदिर का बनेगा मास्टर प्लान : पर्यटन मंत्री महाराज

देहरादून। श्री बद्रीनाथ, श्री केदारनाथ धाम की तर्ज पर अब हनोल स्थित महासू देवता और अल्मोड़ा स्थित जागेश्वर मंदिर के विकास हेतु मास्टर प्लान...